FSIA 2020 - Verified Member

FSIA 2020 – Award Holder - Scientist Pankaj Kumar Kushwaha

Scientist Pankaj Kumar Kushwaha Profile Images

Scientist Pankaj Kumar Kushwaha Video

Scientist Pankaj Kumar Kushwaha Complete Business Details

Scientist Pankaj Kumar Kushwaha Project Details

Scientist Pankaj Kumar Kushwaha Resume

Scientist Pankaj Kumar Kushwaha Achivement

Scientist Pankaj Kumar Kushwaha

(ID 993)

Awarded by history biggest national education icon award,exclusive golden award,India books of record,rastriye gaurav award,best scientists award,vivekanand leadership award,APJ Abdul Kalam international award

Scientist Pankaj Kumar Kushwaha

Scientist Pankaj Kumar Kushwaha

(ID 993)

Awarded by history biggest national education icon award,exclusive golden award,India books of record,rastriye gaurav award,best scientists award,vivekanand leadership award,APJ Abdul Kalam international award

Read More »
View More Details
    • City:
    • Patna

    • State:
    • Bihar

    • Category:
    • Individuals

    • Email ID:
    • pankajkushwaha182555@gmail.com

    • Profession:
    • Young scientist

    • Education
    • 12th

Work Images

video

1

COVID -19 Work

कोरोना रोकथाम के लिए अस्वगंधा का उपयोग आयुर्वेदिक दृश्टिकोण से किआ जा सकता है अश्वगंधा (Withania somnifera) एक पौधा (क्षुप) है। यह विदानिया कुल का पौधा है; विदानिया की विश्व में 10 तथा भारत में 2 प्रजातियाँ पायी जाती हैं।

अश्वगंधा
विथेनिया सोम्नीफेर
तालकटोरा उद्यान में अश्वगंधा
वैज्ञानिक वर्गीकरण
जगत:
पादप
Subkingdom:
ट्रैकेयोनायोंटा
विभाग:
मैग्नोलियोफाइटा
वर्ग:
मैग्नोलियोप्सीडा
उपवर्ग:
Asteridae
गण:
Solanales
कुल:
Solanaceae
वंश:
Withania
जाति:
W. somnifera
द्विपद नाम
Withania somnifera
(L.) Dunal[1]
पर्यायवाची
Physalis somnifera

भारत में पांरपरिक रूप से अश्वगंधा का उपयोग आयुर्वेदिक उपचार के लिए किया जाता है। इसके साथ-साथ इसे नकदी फसल के रूप में भी उगाया जाता है। इसकी ताजा पत्तियों तथा जड़ों में घोड़े की मूत्र की गंध आने के कारण ही इसका नाम अश्वगंधा पड़ा।[कृपया उद्धरण जोड़ें]

भौगोलिक विवरण संपादित करें

विश्व में विदानिया कुल के पौधे स्पेन, मोरक्को, जोर्डन, मिश्र, अफ्रीका, पाकिस्तान, भारत तथा श्रीलंका, में प्राकृतिक रूप में पाये जाते है। भारत में इसकी खेती 1500 मीटर की ऊँचाई तक के सभी क्षेत्रों में की जा रही है। भारत के पश्चिमोत्तर भाग राजस्थान, महाराष्ट्र, मध्य प्रदेश, पंजाब, गुजरात, उत्तर प्रदेश एंव हिमाचल प्रदेश आदि प्रदेशों में अश्वगंधा की खेती की जा रही है। राजस्थान और मध्य प्रदेश में अश्वगंधा की खेती बड़े स्तर पर की जा रही है। राजस्थान के शेखावाटी क्षेत्र में इसे 'असगण्य' या पाडलसिंह कहा जाता है।

पौधा परिचय संपादित करें

अश्वगंधा एक द्विबीज पत्रीय पौधा है। जो कि सोलेनेसी कुल का पौधा है। सोलेनेसी परिवार की पूरे विश्व में लगभग 3000 जातियाँ पाई जाती हैं। और 90 वंश पाये जाते हैं। इसमें से केवल 2 जातियाँ ही भारत में पाई जाती हैं।

इस जाति के पौधे सीधे, अत्यन्त शाखित, सदाबहार तथा झाड़ीनुमा 1.25 मीटर लम्बे पौधे होते हैं। पत्तियाँ रोमयुक्त, अण्डाकार होती हैं। फूल हरे, पीले तथा छोटे एंव पाँच के समूह में लगे हुये होते हैं। इसका फल बेरी जो कि मटर के समान दूध युक्त होता है। जो कि पकने पर लाल रंग का होता है। जड़े 30-45 सेमी लम्बी 2.5-3.5 सेमी मोटी मूली की तरह होती हैं। इनकी जड़ों का बाह्य रंग भूरा तथा यह अन्दर से सफेद होती हैं।

रासायनिक घटक
अश्वगंधा की जड़ों में 0.13 से 0.31 प्रतिशत तक एल्केलाॅइड की सांद्रता पाई जाती है। इसमें महत्वपूर्ण विदानिन एल्केलाॅइड होता है, जो कि कुल एल्केलाॅइड का 35 से 40 प्रतिशत होता है।

कृषि संपादित करें

भारत में अश्वगंधा की जड़ों का उत्पादन प्रति वर्ष 2000 टन है। जबकि जड़ की माँग 7,000 टन प्रति वर्ष है। मध्य प्रदेश के उत्तर पूर्व भाग में लगभग 4000 हेक्टेयर भूमि पर अश्वगंधा की खेती की जा रही है। मध्य प्रदेश के मनसा, नीमच, जावड़, मानपुरा और मंदसौर और राजस्थान के नागौर और कोटा जिलों में अश्वगंधा की खेती की जा रही है।

अच्छे जल निकास वाली बलुई दोमट अथवा हल्की लाल मृदा जिसका पी0 एच0 मान 7.5-8.0 हो व्यावसायिक खेती के लिये उपयुक्त होती है।

यह पछेती खरीफ फसल है। पौधो के अच्छे विकास के लिये 20-35 डिग्री तापमान 500-750 मिमी0 वार्षिक वर्षा होना आवश्यक है। पौधे की बढ़वार के समय शुष्क मौसम एंव मृदा में प्रचुर नमी की होना आवश्यक होता है। शरद ऋतु में 1-2 वर्षा होने पर जड़ों का विकास अच्छा होता है। पर्वतीय क्षेत्रों की अनउपजाऊ भूमि पर भी इसकी खेती को सफलता पूर्वक किया जा सकता है। शुष्क क्रषि के लिये भी अश्वगंधा की खेती उपयुक्त है।

अगस्त और सितम्बर माह में जब वर्षा हो जाऐ उसके बाद जुताई करनी चाहिये। दो बार कल्टीवेटर से जुताई करने के बाद पाटा लगा देना चाहिये। 10-12 कि0ग

Bio

Resume

Achievements

Message Us